सी-विजिल एप पर शिकायतें 16 अक्टूबर से

निर्वाचन आयोग ने आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतों के लिए सी-विजिल मोबाइल एप्लीकेशन के उपयोग करने के निर्देश दिए है। सी-विजिल के संबंध में कलेक्टर डॉ. बसवराजु एस. ने निर्देशन पर गुरूवार को रेडक्रॉस भवन में लाईंग स्कॉवड टीम को आवश्यक प्रशिक्षण दिया गया। अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी डॉ. रेणुका श्रीवास्तव, एसडीएम संदीप अग्रवाल और एनआईसी के डीआईओ प्रदीप मिश्रा ने प्रशिक्षण के दौरान बताया कि कोई भी नागरिक, राजनैतिक दल के उम्मीदवार और कार्यकर्ता सी-विजिल एप्प के माध्यम से आचार संहिता के उल्लघंन की शिकायत कर सकेंगे। इस शिकायत के निराकरण के लिए 100 मिनट के अंदर कार्रवाई की जाएगी।
सी-विजिल के माध्यम से शिकायत प्राप्त होते ही पहले यह संबंधित विधानसभा के डिस्ट्रिक्ट कंट्रोलर के पास पहुचेगी। शिकायत का स्तर देखने के बाद के डिस्ट्रिक्ट कंट्रोलर उसे उचित होने पर लाईंग स्कवॉड के मजिस्ट्रेट को भेजेगा। यदि दूसरे विधानसभा क्षेत्र की शिकायत होगी तो वह उसे वहां ट्रांसफर करेगा। शिकायत उचित नहीं होने पर उस पर कोई कार्रवाई नहीं होगी।
फ्लाईंग स्कवॉड के मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारी 15 मिनट में घटना स्थल पर पहुंचेगें और शिकायत का परीक्षण कर उसकी फोटो और रिपोर्ट रिटर्निंग ऑफिसर को सी-विजिल के माध्यम से भेजेंगे। इसके बाद 50 मिनट में रिटर्निंग ऑफिसर प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर निर्णय लेगें कि इसे निराकृत कर दिया गया या छोड़ दिया जाए या इसे निराकृत करने में अधिक समय लगेगा। सी-विजिल रीयल टाईम आधारित एप्पलीकेशन सॉफ्टवेयर है और यह छत्तीसगढ़ के विधानसभा के चुनावों मैं पहली बार उपयोग किया जा रहा है।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News