सुकमा में किसानों को मिला बोनस

सुकमा में किसानों को मिला बोनस

सुकमा जिले की 12 समितियों के 3018 किसानों को 4 करोड़ 12 लाख 9 हजार रुपए बोनस दिया गया। जिला मुख्यालय स्थित मिनी स्टेडियम में गुरुवार को बोनस तिहार का कार्यक्रम हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप थे।
स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत किसानों का देश है। किसानों के कल्याण के लिए योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के लिए शासन की ओर से जोर दिया जा रहा है। शासन के प्रयासों से सुकमा जैसे आदिवासी अंचल में भी पम्पों के ऊर्जीकरण, सोलर सिचाईं पम्पों की स्थापना, डीजल पम्प देने के कार्य में तेजी आई है। उन्होंने बताया कि 2003 में इस अंचल में मात्र 58 ट्रैक्टर मौजूद थे। इनकी संख्या अब बढ़कर 630 हो गई है। पिछले 13-14 सालों में किसानों ने प्रगति की है। उन्होंने किसानों के कल्याण के लिए मिलकर बेहतर योजनाएं बनाने की बात कही। बोनस का विरोध करने वालों को बोनस छोडऩे की चुनौती भी दी।
सरकार की ओर से चलाई जा रही सरस्वती साइकिल योजना के कारण गांव की बेटियों का हौसला बढ़ा है। वे पढ़ लिखकर डॉक्टर, इंजीनियर बनना चाहती हैं। शैक्षणिक और आर्थिक रुप से सशक्त बनाने के लिए राजधानी में प्रयास और दिल्ली में ट्राईबल हॉस्टल बनाया गया है। उन्होंने छिंदगढ़ की छात्रा गीता बृंझ के जज बनने पर बधाई दी। उन्होंने बताया कि इस साल शासन के सहयोग सेे 30 युवाओं का चयन यूपीएससी की परीक्षा में हुआ है। इसके साथ ही आईआईटी में 28 और मेडिकल कॉलेज में 23 विद्यार्थियों को प्रवेश मिला है।
मंत्री केदार कश्यप ने कहा कि 4 करोड़ रुपए से अधिक की राशि धान उत्पादक किसानों को दी गई है। इसके साथ ही वन विभाग की ओर से जिले में तेंदू पत्ता संग्राहकों को 63 करोड़ 11 लाख रुपए दिया गया और 70 करोड़ रूपए तेंदूपत्ता का बोनस दिया जा रहा है। हमारा जीवन वन पर आधारित है और हर्रा, बहेड़ा, ईमली, टोरा और महुआ को हरा सोना का दर्जा मिला है। ये हमारे लिए तभी बहुमूल्य रहेंगे, जब इनकी सही कीमत हमें मिलेगी।

Source: 
Vision News Service

Related News