स्मार्ट सिटी की राह में रोड़ा बने हैं अवैध भैंस खटाल

स्मार्ट सिटी की राह में शहर के अंदर संचालित अवैध भैंस खटाल बाधा साबित हो रहे हैं। इन खटालों के चलते न केवल शहर की खूबसूरती में दाग लग रहा है, बल्कि वातावरण दूषित होने के साथ ही संक्रामक बीमारी फैलने का खतरा भी बना हुआ है। अब जब नगर निगम की ओर से अवैध भैंस खटालों हटाने की कार्रवाई शुरू की जा चुकी है तो इसे अंजाम तक पहुंचाना जरूरी हो गया है।
नगर निगम भिलाई की ओर से अवैध भैंस खटालों को खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी गई है। इसके लिए करीब 600 खटालों को चिन्हित किया गया है। इन खटालों के संचालकों को नोटिस जारी कर नल व बिजली कनेक्शन काटने की चेतावनी दी गई है। इस चेतावनी को अमल में लाते हुए तकरीबन 60 खटालों के नल कनेक्शन को निगम की ओर से काटा जा चुका है। पुन: पूरे जोन में चिन्हित खटाल के नल कनेक्शन काटने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। इसके बाद बिजली कनेक्शन काटने की कार्रवाई निगम की ओर से बिजली महकमे के सहयोग से किया जाएगा।
गौरतलब है कि नगर निगम की ओर से मवेशी पालकों के लिए कुरुद के पास गोकुल नगर विकसित किया गया है। वहां पर सभी पशु पालकों को खटाल संचालन के लिए भूखण्ड आबंटित करते हुए पानी, बिजली व पशु चिकित्सालय की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। बावजूद इसके शहर के अंदरुनी इलाके में भैंस खटालों के संचालन होने से आसपास के रहवासियों को नारकीय जीवन जीने मजबूर होना पड़ रहा है। खटाल संचालक मवेशियों के गोबर और अन्य गंदगी को निगम की नाली में डाल देते हैं। इसके अलावा सड़क व गलियों का इस्तेमाल गोबर का छेना व लड्डू बनाने में होने से वातावरण दूषित बना रहता है। इस वजह से कई बार संक्रामक बीमारियों का प्रकोप भी जनमानस को झेलना पड़ता है।
यहां पर यह बताना भी लाजिमी होगा कि भिलाई को स्मार्ट सिटी बनाने केन्द्र व राज्य सरकार गंभीर है। इसके लिए स्वच्छता रैकिंग को सुधारना जरुरी है। हाल की रैकिंग में भिलाई निगम की सफाई व्यवस्था को स्मार्ट सिटी की राह में अनुकूल नहीं पाया गया है। इसमें अवैध भैंस खटालों से निकलने वाली गंदगी को माना गया है। इसके बाद नगर निगम की ओर से शहर को खटालमुक्त बनाने के प्रति गंभीरता नजर आई है। नए सिरे से सर्वे के बाद छह सौ के करीब भैंस खटालों को चिन्हित किया जाना इस गंभीरता का हिस्सा माना जा रहा है।
मंत्री पांडेय से लगाा चुके हैं गुहार
अवैध भैंस खटालों से होने वाली परेशानी की बात मंत्री व भिलाई विधायक प्रेमप्रकाश पांडेय तक लोगों ने पहुंचाई है। पांडेय ने हाल ही फेसबुक लाइव कार्यक्रम शुरू किया। इसके लिए उन्होंने शहरवासियों को स्वच्छता के मसले पर सवाल पूछने का अवसर प्रदान किया था। ज्यादातर सवाल शहर के अंदर नियम विरुद्ध संचालित भैंस खटालों को हटाए जाने को लेकर थी। लोगों ने स्मार्ट सिटी की राह में रोड़ा बताते हुए भैंस खटालों को शहर से बाहर करने का मनुहार मंत्री पांडेय से किया। इस तरह की बातें सुपेला, कैम्प, हाउसिंग बोर्ड व खुर्सीपार व छावनी के खटालों को लेकर फेसबुक में उठाई गई है।

Source: 
Vision News Service

Related News