Culture

Culture

980 तीर्थयात्रियों को किया रवाना

छत्तीसगढ शासन के समाज कल्याण विभाग की ओर से मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के तहत गुरूवार को हजारों लोगों को तीर्थ स्थल भेजा गया। रायपुर रेलवे स्टेशन पर पहुंचे तीर्थ यात्रियों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। मुख्यमंत्री तीर्थ योजना में पंजीयन का सिलिसिला लगाजार जारी है।
वरिष्ठ नागरिकों के तीर्थ यात्री दल में रायपुर नगर निगम के विभिन्न वार्डों के अनेक वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्री सम्मिलित है। इन तीर्थ यात्रियों को हरिद्वार, ऋषिकेश ले जाया जाएगा। जहां उन्हें विभिन्न देवी देवताओं का दर्शन कराया जाएगा। इस यात्रा में 980 तीर्थ यात्री शामिल हैं ।

छत्तीसगढ़ विशेष • स्लाइडर मनोकामना पूरी करने वाली मां अंगारमोती के मंदिर में लगा आस्था का मेला

AngarMoti

दंडकारण्य का प्रवेश द्वार कहे जाने वाले धमतरी में हमेशा से ही दैवीय शक्तियों का वास रहा है. देवी के विभिन्न रूपों के साथ-साथ अंगारमोती माता के प्रति यहां के लोगों में अगाध श्रद्धा है. नवरात्र के दौरान माता अंगारमोती के दर्शन के लिए यहां श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है.

भागवत कथा के लिए निकली कलश यात्रा

स्थानीय गुडरूपारा चंदन भवन दुर्गा चौक में द्रौपदी बाई अग्रवाल की स्मृति में श्रीमद् भागवत कथा 21 सितंबर से शुरू हुई । शुक्रवार को मुरलीधर, गंगाधर अग्रवाल ने कहा कि मंगल कलश यात्रा कथा स्थल से कचहरी चौक हनुमान मंदिर से पूजा-अर्चना के बाद नगर भ्रमण करते हुए वापस कथा स्थल पहुंची। इस दौरान कलश यात्रा का श्रद्धालुओं ने स्वागत भी किया।

सोनई -रूपई मंदिर में जल रही 266 मनोकामना ज्योत

ग्राम खट्टी के सोनई- रूपई माता मंदिर में नवरात्र के अवसर पर इस वर्ष 19 घी और 247 तेल मनोकामना ज्योत प्रज्जवलित किए गए हैं। पर्व के दौरान 9 दिनों तक माता भक्ति, जसगीत, भजन आदि आयोजित किए जाते हैं। मंदिर समिति के अध्यक्ष होरीलाल साहू, सदस्य कमलेश ध्रुवंशी ने भक्तों से अधिकतम संख्या में उपस्थिति की अपील की है।

शान्ति सरोवर में सजाई गई चैतन्य देवियों की झांकी अद्भुत : महापौर

शान्ति सरोवर में सजाई गई चैतन्य देवियों की झांकी अद्भुत : महापौर

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की ओर से विधानसभा मार्ग पर स्थित शान्ति सरोवर में सजाई गई चैतन्य झांकी अद्भुत और दर्शनीय है। उक्त बात रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे ने कही है। मां दुर्गा के नौ रूपों को अत्यन्त आकर्षक और जीवन्त स्वरूप में प्रस्तुत किया गया है। गुरूवार को महापौर प्रमोद दुबे, रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव, क्षेत्रीय निदेशिका ब्रह्माकुमारी कमला दीदी और वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका ब्रह्माकुमारी सविता और रश्मि बहन ने चैतन्य देवियों की झांकी की शुरुआत दीप जलाकर किए।

मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा 3-6 अक्टूबर तक

मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के अंतर्गत 3-6 अक्टूबर तक जिले के 566 तीर्थयात्रियों को शिरडी, शनि सिंगनापुर और त्रयंबकेश्वर की यात्रा कराई जाएगी। कलेक्टर कार्यालय (समाज कल्याण) से जारी सूचना के अनुसार जनपद पंचायत और नगरीय निकायों से कुल 650 तीर्थयात्रियों की सूची का प्रकाशन कलेक्टर कार्यालय, जिला पंचायत कार्यालय, समस्त अनुविभागीय अधिकारी (रा.), समस्त तहसील कार्यालय, समस्त जनपद पंचायत कार्यालय, समस्त नगरीय निकाय कार्यालय, संबंधित ग्राम पंचायत एवं बेवसाईट डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू डॉट जांजगीर-चांपा डॉट एनआईसी डॉट इन में कर दिया है।

बस्तर दशहरा : जोगी बिठाई रस्म हुई

बस्तर दशहरा : जोगी बिठाई रस्म हुई

बस्तर दशहारा को निर्विघ्न पूरा करने तप और साधना के लिए गुरुवार शाम सिरहासार भवन में जोगी को विधि विधान से बैठाया गया। इस बार यह जिम्मेदारी ग्राम बड़े आमाबाल के रघुनाथ को मिली है। वे पहली बार जोगी के रूप में साधना करेंगे। इस दौरान पिछले वर्ष बैठे उसके मामा भगत देखरेख में साथ-साथ रहेंगे। इससे पहले रघुनाथ ने राजमहल और मां दंतेश्वरी का आशीर्वाद लिया। इस दौरान जोगी पूरे 9 दिन उपवास में काली चाय के सेवन करते है। आराध्य माता दंतेश्वरी की कृपा से 4 बाई 6 के भूमिगत गड्ढे में 9 दिन रहना पड़ता है।

नवरात्रि प्रारंभ, देवी मंदिरों में सुबह से लगा भक्तों का तांता

नवरात्र के पहले दिन आज गुरुवार सुबह से देवी मंदिरों में माता की पूजा-अर्चना और मनोकामना पूर्ति के लिए भक्तों का शहर स्थित कुलदेवी महामाया मंदिर, शीतला मंदिर, रामेश्वरी दुर्गा मंदिर सहित अन्य देवी सिद्ध शक्तिपीठों में तांता लगा रहा। इधर, शहर के दुर्गा पंडालों में भी मूर्ति स्थापना के लिए तैयारियां अंतिम चरणों पर है। शाम तक सभी दुर्गा पंडालों में मूर्तियां विराजित होने के साथ ही देवी मंदिरों में अखंड ज्योति प्रज्जवलित हो जाएंगी।

अग्रसेन महाविद्यालय में हुई महाआरती

अग्रसेन जयंती के अवसर पर अग्रसेन महाविद्यालय पुरानी बस्ती में गुरूवार को महाआरती का आयोजन हुआ। इस मौके पर आमंत्रित अतिथियों ने महाराज अग्रसेन के साहस और शौर्य का गौरवपूर्ण स्मरण किया गया। महाआरती के दौरान विद्यार्थियों ने भक्ति संगीत में पूरे उत्साह के साथ भजन और माता जसगीत की शानदार प्रस्तुति दी। इसके अलावा प्राचार्य डॉ.

अग्रसेन जयंती पर हुई महाआरती

अग्रसेन जयंती पर हुई महाआरती

अग्रसेन जयंती के अवसर पर अग्रसेन महाविद्यालय पुरानी बस्ती में गुरूवार को महाआरती हुई।वहां मौजूद अतिथियों ने महाराज अग्रसेन के साहस और शौर्य का लोगों को परिचय दिया। अतिथियों ने कहा कि महाराज अग्रसेन अपने समुदाय की सुख-समृद्धि के लिए अनुकरणीय आदर्श स्थापित किए। महाआरती के बाद विद्यार्थियों ने भजन और जसगीत का गायन किया।
कार्यक्रम में महाविद्यालय के संचालक डॉ. वी.के. अग्रवाल ने महाराजा अग्रसेन के सिद्धांतों को जीवन में अपनाने पर जोर दिया। वहीं प्राचार्य डा. युलेंद्र कुमार राजपूत और महाविद्यालय के एडमिनिस्ट्रेटर प्रो. अमित अग्रवाल ने भी सभी उपस्थित लोगों को इस विशेष दिन की शुभकामनाएं दी।

Related News