Culture

Culture

Niti Ayog strengthened co-operative federalism: Dr. Raman Singh

CM Dr. Raman Singh expressed these views at a meeting with Niti Ayog Vice-Chairman Dr. Rajiv Kumar at Mantralaya

Chief Minister Dr. Raman Singh today said that Niti Ayog constituted under the dynamic leadership of Prime Minister Mr. Narendra Modi had strengthened the concept co-operative federalism among all the states. Apart from this, the states are getting increased financial outlays for several developmental projects.

रानी मंदिर में अगहन वृहस्पति पूजा हुई

छत्तीसगढ़ के प्रमुख त्योहारों में एक लोकप्रिय अगहन वृहस्पति पूजा प्राचीन रानी मंदिर छुईखदान में सामूहिक पूजा उत्सव मनाया जाता है। मंदिर समिति के संरक्षक लल्ला जे.के.

9 दिनी रामकथा 14 से

नौ दिवसीय श्रीरामकथा 14 से 22 नवंबर तक शहर के पार्क एवेन्यू के सामने, जिंदल रोड में शुरू होगा। सुप्रसिद्ध कथावाचक, मानस मर्मज्ञ अतुल कृष्ण महाराज मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की जीवनगाथा का विस्तृत भावपूर्ण वर्णन करेंगे। आयोजक परिवार के सुनील रामदास ने इस आयोजन में सभी श्रद्धालुओं को शामिल होकर कथा श्रवण करने के लिए आग्रह किया है। कथा का आयोजन सुनील रामदास के नेतृत्व में रामदास द्रौपदी फाउंडेशन, श्रीराम कथा आयोजन समिति और सर्वसमाज की ओर से किया जा रहा है।

जन्म स्थल पर राम मंदिर बनाने की होगी पहल : योगी

   जन्म स्थल पर राम मंदिर बनाने की होगी पहल : योगी

भगवान राम के जन्म स्थल पर राम मंदिर बनाने की पहल होगी। ये बातें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और हिन्दूवादी नेता योगी आदित्यनाथ ने कही। वे आज सोमवार को राजधानी रायपुर पहुंचे हैं। सीएम बनने के बाद रायपुर का पहला दौरा है।
उन्होंने कहा कि, मैं भगवान राम के ननिहाल आया हूं। सीएम बनने के पहले राम मंदिर छत्तीसगढ़ आया था। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के बारे में उन्होंने कहा कि, जन्मस्थल पर राम मंदिर बनाने की पहल की जा रही है। सुप्रीम कोर्ट में 5 तारीख से प्रतिदिन सुनवाई होगी।

सेवा कुंज में 5 दिवसीय शिव कथा 8 से

रायगढ़ में 8 से 12 नवंबर तक हण्डी चौक स्थित सेवाकुंज में प्रतिदिन दोपहर 3 से 6 बजे तक पांच दिवसीय शिव कथा का कार्यक्रम होगा। कथा में अभेदानंद कथा वाचक, अखिलेशानंद और साध्वी बहनों की ओर से कथावाचन किया जाएगा।

रामलीला भारतीय संस्कृति - सभ्यता की विकास गाथा: राजेश्री

रामलीला भारतीय संस्कृति - सभ्यता की विकास गाथा: राजेश्री

रामलीला प्राचीन भारतीय सनातन संस्कृति और सभ्यता के विकास की गाथा है, जिन कथाओं का रसपान हम वेद-पुराणों और रामचरितमानस में करते आ रहे हैं, उन्हें कथाओं का यह मंचीय स्वरुप है। गुरुवार को ये बातें महामंडलेश्वर के पद से विभूषित भगवान शिवरीनारायण मठ मंदिर के मठाधीश राजेश्री महंत रामसुंदर दास ने ग्राम डोंगाकोहरौद में रामलीला के शुभारंभ पर मुख्य अभ्यागत के रूप में रामलीला देखने के लिए उपस्थित दर्शक समूह को संबोधित करते हुए कही । विशिष्ट अतिथि के रुप में शेष राज हरबंस, मीडिया प्रभारी निर्मल दास वैष्णव, देव कुमार पांडे, हर प्रसाद साहू ,कल्याण सिंह बर्मन उपस्थित थे। 25 अक्टूबर को पामगढ़ के समीप इस गांव

तालाबों में छठ पूजा के लिए उमड़ी भक्तों की भीड़

तालाबों में छठ पूजा के लिए उमड़ी भक्तों की भीड़

छठ पर्व पर सूर्यदेव की आराधना के लिए नदी, तालाबों में गुरुवार शाम भक्तों की भीड़ उमड़ी। व्रती महिलाओं के साथ सिर पर फल और पूजन सामग्री की टोकरी लिए पुरुष तालाब पहुंचे। वहां वेदी पर गन्ने से मंडप बनाकर छठी माता की पूजा की। इसके बाद शाम 5 बजे से अस्ताचलगामी सूर्य को अघ्र्य देने का सिलसिला चलता रहा।

छठ पर खुर्सीपार में कवि सम्मेलन 27 को

यूपी बिहार के मूल निवासियों के प्रमुख त्यौहार छठ के उपलक्ष्य में छठ महोत्सव 27 अक्टूबर को होगा। रात्रि 9 बजे अण्डा चौक खुर्सीपार में अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का कार्यक्रम होगा। महोत्सव के संयोजक अशोक कुमार मौर्य ने बताया कि छठ पर होने वाले कवि सम्मेलन का यह दूसरा वर्ष है। इस वर्ष भी भिलाई के व्यंग्यकार आलोक शर्मा के संयोजन में कवियों को आमंत्रित किया गया है। आमंत्रित कवियों में हरिओम पवार वीर रस मेरठ, लक्ष्मण नेपाली हास्य भोपाल, हिमाशु बवंडर हास्य मंदसौर, नम्रता नमित श्रीवास्तव श्रृंगार रस भोपाल, किशोर तिवारी गीत भिलाई एवं आलोक शर्मा व्यंग्य भिलाई है। छठ महोत्सव के सभी पदाधिकारियों ने लोगों से

स्कंद षष्ठी महोत्सव 22 से

स्कंद षष्ठी महायज्ञ महोत्सव 22 से 25 अक्टूबर तक चलेगा। इसके लिए हवन की तैयारी लगभग पूरी कर ली गई है। महोत्सव के सभी हवन पूरा कराने कांचीपुरम से महाचार्य एन गणेशन के नेतृत्व में तमिलनाडु के आचार्यों का दल 21 अक्टूबर को भिलाई पहुंचेगा। स्कंदाश्रम के संस्थापक आचार्य मणि स्वामी ने पत्रकार वार्ता में बताया की महापर्व की शुरुआत 22 अक्टूबर सुबह 6 बजे गौपूजा अनुगजय, विघ्नेश्वर पूजा, गंगा पूजा, पुन्याग वाचनम महा संकल्प कलश स्थापना, सर्व देवता आव्हान, प्राण प्रतिष्ठा और षष्ठी वाचनम दीप आराधना के साथ होगी। 22 अक्टूबर को सुबह 7.30 बजे महागणपति हवन से दिन शुरू होगा। उसके बाद गायत्री नवग्रह पूजन, वास्तु पू

पतिधर्म के लिए माता पार्वती ने प्राण की आहुति दे दी: ओमप्रकाश

 पतिधर्म के लिए माता पार्वती ने प्राण की आहुति दे दी: ओमप्रकाश

राजा दक्ष की ओर से यज्ञ में भगवान शिव को आमंत्रित नहीं किए जाने से नाराज होकर माता पार्वती ने अपमानित महसूस कर और क्रोध में आकर यज्ञ के अग्रिकुण्ड में कूदकर प्राण आहुति दे दी। पतिव्रता धर्म का पालन किया। उक्त कथा का वाचन व्यास पीठ पर बैठे पं. ओमप्रकाश शर्मा ने खरौद नगर में राधिका-राजेश्वर यादव के निवास पर भागवत कथा यज्ञ के अवसर पर किया।

Related News