General

General News

शिक्षकों को मिलेगा श्रेणी सुधार करने का मौका

एक वर्षीय डीएड उपाधि धारित, हायर सेकेण्डरी अथवा समकक्ष शिक्षकों को परीक्षा में 50 प्रतिशत से कम अंक होने पर श्रेणी सुधार करना होगा। शिक्षा विभाग की ओर से इसके लिए ऑनलाईन पंजीयन की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। स्नातक और स्नातकोत्तर योग्यता रखने वाले और द्वि-वर्षीय डिप्लोमाधारी शिक्षकों को हायर सेकेण्डरी के अंकों में सुधार के लिए पंजीयन कराने की आवश्यकता नहीं है। अधिकतम शैक्षणिक योग्यता हायर सेकेण्डरी उत्तीर्ण और 50 प्रतिशत से कम अंक वाले के लिए ही लागू होगी।

राईस मिलर्स बिना अनुमति के नहीं ला सकेंगे दूसरे राज्य का धान

खाद्य नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता संरक्षण विभाग विभाग की ओर से खरीफ वर्ष 2017-18 में समर्थन मूल्य पर धान उपार्जन के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। धान उपार्जन अवधि के दौरान सीमावर्ती राज्यों से धान लाकर राज्य के उपार्जन केन्द्रों में समर्थन मूल्य पर विक्रय करने की आशंका बनी रहती है। इसे ध्यान में रखते हुए जरूरी दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।

प्रदूषण से संयंत्र कर्मियों की सेहत हो रही खराब

समस्याओं को लेकर 24 नवम्बर को होने वाले महाधरना को सफल बनाने बीएसपी वर्कर्स यूनियन के प्रतिनिधि मंडल ने शुक्रवार को एसपी-3 का दौरा किया। इस दौरान एसपी 3 के कर्मियों ने यूनियन के प्रतिनिधि मंडल को अपने कार्यस्थल के बुरे हालात के बारे में बताया। कर्मियों ने प्रतिनिधिमंडल से कहा कि एसपी 3 को सयंत्र का सबसे ज्यादा प्रदूषित क्षेत्र माना जाता है। पीने का पानी भी गंदा आने लगा है और वाशबेसिन की सफाई भी नहीं की जाती है। इस वजह से बीमारी फैलने का खतरा बना रहता है। कर्मियों ने यूनियन से मांग रखी कि एसपी 3 के कर्मियों का हर माह सीने की जांच डॉक्टर से करवाएं और उनके सीने का प्रति माह एक्सरे हो। कर्मियों ने

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुई पुष्टि प्रेमी जोड़े ने की थी आत्महत्या

चार दिन पहले न्यू बसंत टॉकीज के पास गैरेज के गोदाम में जिस प्रेमी जोड़े की लाश मिली थी, उसकी शार्ट पास्टमार्टम रिपोर्ट पुलिस को मिल गई है। रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि हुई है कि मृतकों ने आत्महत्या की है। मौत का कारण भी प्रेमप्रसंग ही है।

घर में सुतली बम फोडऩे से परिवार दहशत में

असमाजिक तत्वों की ओर से सुतली बम घर में फेकने का मामला प्रकाश में आया है। घटना की खबर मिलते ही एसपी दुर्ग ने मौके पर सीएसपी को भेजकर घर वालों की सुरक्षा पुख्ता करवाया। मामले की पुलिस देर रात तक जांच करती रही, लेकिन आरोपी के बारे में खास जानकारी नहीं मिल पाई। पीड़ित ने घटना की शिकायत थाने में कर दी है।

विद्यार्थियों ने सीखे आग से सुरक्षा के उपाय

विद्यार्थियों ने सीखे आग से सुरक्षा के उपाय

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के परिपत्र के आधार पर शारदा विद्यालय, रिसाली में 17 नवंबर को अग्नि शमन यंत्र के प्रयोग से आग बुझाने के त्वरित प्रयासों को विद्यार्थियों ने सीखा। विद्यालय प्रशासन की ओर से ढाई घंटे की एक प्रशिक्षण कार्यशाला किया गया। यह कार्यशाला फायर फाइटिंग इंजीनियर सर्विसेस की ओर से विकास कुमार दास एंड कम्पनी की देख रेख में की गई। लगातार ढाई घंटे तक चलने वाले इस प्रशिक्षण में कक्षा दसवीं, ग्यारहवीं और बारहवीं के विद्यार्थियों के साथ प्रयोगशाला कर्मचारी, स्कूली बसों के चालक और शिक्षक - शिक्षिकाओं ने भाग लिया। विद्यार्थियों के प्रशिक्षण के लिए विद्यालय के प्रांगण को चुना गया जह

शिक्षा विभाग में नौकरी लगाने के नाम पर ठगी

शिक्षा विभाग में नौकरी लगाने के नाम पर डेढ़ लाख रूपए ठगी करने का मामला प्रकाश में आया है। पीड़िता ने सालभर पहले आरोपी को तीन क़िस्त में डेढ़ लाख रूपए दिए थे। आरोपी ने रूपए लेने के बाद न तो पीडि़ता की नौकरी नहीं लगवाई और रुपए भी वापस नहीं किए। पीड़िता ने भिलाई नगर थाने में इस मामले की शिकायत की है।

लाखेनगर चौक पर शिक्षकों का धरना

छत्तीसगढ़ अंशकालीन शिक्षक संघ की ओर से हिन्दी स्पोर्टिंग मैदान लाखेनगर चौक पर धरना दिया जा रहा है। आज शनिवार सुबह से ही प्रदेश भर से आए अंशकालीन शिक्षक अपनी विभिन्न मांगों को लेकर धरना दे रहें है। आज बुढ़ापारा धरना-प्रदर्शन स्थल पर अन्य संगठनों के प्रदर्शन के कारण जगह कम होने पर अंशकालीन शिक्षकों को हिन्द स्पोर्टिंग मैदान में प्रशासन की ओर से प्रदर्शन की अनुमति दी गई है। आजाद चौक थाना प्रभारी सपन चौधरी ने कहा कि, संघ के इस प्रदर्शन में लगभग 500 से 600 की भीड़ है। व्यवस्था के लिए थाना का स्टाफ मौजूद है।

अपनों की तलाश में 7 सालों से भटक रहे परिजन से मिले विधायक

सात साल पहले 2010 की रात जम्मू-कश्मीर प्रदेश के लेह-लद्दाख क्षेत्र में बादल फटने की घटना हुई थी। इस घटना से अनेक ग्रामों के 56 श्रमिक और उनके परिजन आहत हैं। इस दौरान 37 श्रमिक लापता हो गए थे। इसके अलावा अनेक लोगों की इस भीषण तबाही के कारण मौत हो गई थी। लेह-लद्दाख में बादल फटने की घटना में मृत और आहत श्रमिकों के परिजनों को छग शासन की ओर से आर्थिक सहायता दी गयी है। लेकिन घटना को सात साल बीत जाने के बावजूद 37 लापता श्रमिकों के परिजन आज भी आर्थिक सहायता का इंतजार करने को विवश हैं।

अपनों की तलाश में 7 सालों से भटक रहे परिजन से मिले विधायक

सात साल पहले 2010 की रात जम्मू-कश्मीर प्रदेश के लेह-लद्दाख क्षेत्र में बादल फटने की घटना हुई थी। इस घटना से अनेक ग्रामों के 56 श्रमिक और उनके परिजन आहत हैं। इस दौरान 37 श्रमिक लापता हो गए थे। इसके अलावा अनेक लोगों की इस भीषण तबाही के कारण मौत हो गई थी। लेह-लद्दाख में बादल फटने की घटना में मृत और आहत श्रमिकों के परिजनों को छग शासन की ओर से आर्थिक सहायता दी गयी है। लेकिन घटना को सात साल बीत जाने के बावजूद 37 लापता श्रमिकों के परिजन आज भी आर्थिक सहायता का इंतजार करने को विवश हैं।

Related News