Ambikapur

CG-15, Ambikapur

मैनपाट महोत्सव 4 और 5 फरवरी को, मुख्यमंत्री करेंगे महोत्सव का उद्घाटन

छत्तीसगढ़ का शिमला कहे जाने वाले मैनपाट के प्राकृतिक सौन्दर्य से पर्यटकों को आकर्षित करने के उद्देश्य से प्रतिवर्ष मैनपाट महोत्सव का आयोजन किया जाता है। कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने आज जिला कार्यालय के सभाकक्ष में मैनपाट महोत्सव के संबंध में आयोजित बैठक में बताया कि इस वर्ष मैनपाट महोत्सव का दो दिवसीय आयोजन 4 एवं 5 फरवरी को किया जाएगा। महोत्सव का शुभारंभ 4 फरवरी को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मुख्य आतिथ्य एवं वरिष्ठ जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में होगा।

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण संविदा तकनीकी सहायक भर्ती के लिए शु़द्धी पत्र जारी

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के अंतर्गत संविदा तकनीकी सहायक पद के लिए संशोधित विज्ञापन 6 नवम्बर 2017 को जारी किया गया था। जारी विज्ञापन में तकनीकी सहायक के 7 रिक्त पदों के आरक्षण की स्थिति में अनारक्षित वर्ग में 1 पद मुक्त एवं 1 महिला रखा गया है। छत्तीसगढ़ शासन के सामान्य प्रशासन विभाग रायपुर के 14 जुलाई 2017 के पत्र बिंन्दु क्रमांक 3 के अनुसार महिला आरक्षण नियम में उर्ध्व (वर्टिकल) एवं क्षैतिज (होरिजोन्टल) आरक्षण का प्रावधान होने के कारण रूल्स ऑफ राउंडिंग लागू नहीं करने के निर्देश दिये गय हैं एवं बिन्दु क्रमांक 4 के अनुसार पदों की गणना केवल पूर्णाकों के अनुसार ही की जाएगी अर्थात पदों की सं

हाथियों के आगमन पर सतर्कता बरतने की अपील

छत्तीसगढ़ शासन की ओर से सरगुजा क्षेत्र में हाथियों के आगमन को दृष्टिगत रखते हुये लोगों की सुरक्षा के लिए अत्याधुनिक उपकरणों से युक्त गजराज वाहन प्रदान किये गये हैं। इन वाहनों में हाईबीम लाईट, हुटर, वन्यप्राणियों को नियंत्रित करने के लिए जाल, लोहे की जंजीर, सैकल आदि की उपलब्धता की गई है। ये वाहन सरगुजा जिले के उदयपुर, सायर, कुदर बसवार, केदमा, बासेन एवं डांडगांव में उपलब्ध कराये गये हैं। सरगुजा वन वृत्त के मुख्य वन संरक्षक के.के.

स्वच्छता-सर्वेक्षण में नंबर एक का तमगा हासिल करने नगर निगम ने झोंकी ताकत

स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 के सर्वे के लिए अभी तक केन्द्रीय टीम के पहुंचने की कोई जानकारी नगर निगम के आला अधिकारियों को नहीं है, लेकिन निगम आयुक्त सर्वे से पहले साफ- सफाई व्यवस्था को लेकर बीते 2 दिनों से काफी जोर-शोर से लगे हुए हैं।
रविवार को अवकाश के दिन भी उन्होंने सफाई अमले को लेकर शहर के विभिन्न स्थलों का निरीक्षण किया था। इस दौरान निगम आयुक्त ने रिंग रोड में ठेका कम्पनी की ओर से पानी का छिड़काव नहीं किए जाने पर नाराजगी व्यक्त की जिससे ठेका कंपनी भी आज सोमवार को सुबह से ही रोड में पानी का छिड़काव कर धूल के गुब्बार को उडऩे से रोकने में लगी है ताकि आसपास में घर व दुकान धूल धुुसरित ना दिखे ।

नगर निगम की सामान्य सभा 15 को

नगर निगम की सामान्य सभा की बैठक 15 जनवरी को होगी। नवंबर में यह बैठक होनी थी, लेकिन बैठक बुलाएं जाने के चार दिन बाद ही विधानसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लागू हो गई और बैठक नहीं हो पाई। इससे कई काम लटके हुए हैं। इसमें प्रतीक्षा बस स्टैण्ड में कांक्रीट सड़क के पौने दो करोड का काम भी है जिस पर अब बैठक में मंजूरी मिलनी है। चूँकि ये स्थगित बैठक हो गई थी और एजेंडे तय हो गये हैं इसलिए नए एजेंडे शामिल करने के लिए नियमों का अध्ययन किया जा रहा है। सत्तारूढ़ कांग्रेस बहुमत के आधार पर बैठक में शहर के सभी प्रमुख मार्गों के सौंदर्यींकरण के लिए प्रस्ताव पास किया जा सकता है। बड़े शहरों की तर्ज पर सभी मार्गों

बढ़े हुए समर्थन मूल्य का लाभ वास्तविक किसानों को ही मिले: कलेक्टर

बढ़े हुए समर्थन मूल्य का लाभ वास्तविक किसानों को ही मिले: कलेक्टर

कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने आज यहां अपने कार्यालयीन कक्ष में धान खरीदी की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने समितिवार धान खरीदी एवं मिलर्स की ओर से धान के उठाव की समीक्षा करते हुए कहा कि राज्य शासन के निर्देशानुसार धान के बढ़े हुये समर्थन मूल्य का लाभ वास्तविक किसानों को ही मिले इसके लिए राजस्व, खाद्य तथा सहकारिता विभाग के अधिकारी आपसी समन्वय स्थापित कर आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करें।

इलाज में लापरवाही, डॉक्टर व 2 स्टाफ नर्स निलंबित

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में स्टाफ नर्स व डॉक्टर की इलाज में लापरवाही से एक मरीज की 3 दिन पूर्व मौत हो गई थी। स्वास्थ्य मंत्री ने मामले को गम्भीरता से लेते हुए कड़े तेवर दिखाएं हैं। उनके आदेश पर कलेक्टर ने एसडीएम से पूरे मामले की जांच करवाकर प्रतिवेदन चिकित्सा शिक्षा विभाग के समक्ष पेश किया था। जांच प्रतिवेदन प्राप्त होते ही शनिवार की देर शाम चिकित्सा शिक्षा विभाग के अवर सचिव ने 1 डॉक्टर व 2 स्टाफ नर्स को निलंबित कर दिया है।

क्लिीयरेंस के चक्कर में अटका अंम्बिकापुर-प्रतापपुर सड़क निर्माण

सड़क विकास निगम की लापरवाही से दो साल बाद भी अम्बिकापुर-प्रतापपुर मार्ग की 40 किमी लंबी सड़क का निर्माण पूरा होता नहीं दिख रहा है। लंबे इंतजार के बाद अभी तक वनभूमि की स्वीकृति नहीं मिल पाई है, वहीं सड़क के पुल-पुलियों का निर्माण अधूरा पडा हुआ है। विभाग की लापरवाही के कारण धूल से शहरवासियों का बुरा हाल है। वहीं आधे-अधूरे निर्माण के कारण आए दिन लोग दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं।