धान खरीदी

बोनस की धमक, 3 दिन पहले ही 40 लाख क्विंटल धान खरीदी का टारगेट पार

बोनस की धमक, 3 दिन पहले ही 40 लाख क्विंटल धान खरीदी का टारगेट पार

बिलासपुर जिले में धान की खरीदी अभी 3 दिन और होना है। लेकिन इस बार 25 सौ बोनस का असर इस कदर दिखा कि निर्धारित 40 लाख क्विंटल का लक्ष्य 3 दिन पहले पूरा हो चुका है। जबकि समितियों और उपार्जन केंद्रों में धान की खरीदी लगातार जारी है। लेकिन उठाव की स्थिति उतनी बेहतर नहीं है। कल तक के आंकड़े की मानें तो करीबन 11लाख 3 हजार क्विंटल धान उठाव के लिए पड़ा हैं । जबकि 72 घंटे में उठाव करने का नियम लागू किया गया है।

समर्थन मूल्य में धान खरीदी 31 जनवरी तक

विपणन वर्ष 2018-19 में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी 31 जनवरी 2019 तक की जायेगी। अंतिम दिनों में किसानों से धान खरीदी सुचारू रूप से किये जाने सभी अनुविभागीय अधिकारी को कलेक्टर की ओर से निर्देशित किया गया है कि वे अपने अनुविभाग अंतर्गत राजस्व, सहकारिता, खाद्य एवं कृषि विभाग के कर्मचारी नियुक्त कर कड़ाई से मानिटरिंग करें।

धान खरीदी में हेराफेरी करने वाले लैम्प्स प्रबंधकों के विरुद्ध करें कार्यवाही

समर्थन मूल्य पर धान खरीदी में हेराफेरी करने वाले लैम्प्स प्रबंधकों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही के निर्देश प्रभारी कलेक्टर प्रभात मलिक ने दिए। मंगलवार को समय सीमा बैठक में उन्होंने कहा कि जिन समितियों की ओर से घटिया क्वालिटी की धान खरीदी की गई, या बिना टोकन दिए धान खरीदी की जा रही है या अधिक धान खरीदी जा रही है, ऐसे समिति के प्रबंधकों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही करें। उन्होंने धान खरीदी की लगातार निगरानी करने के साथ ही निगरानी में कोताही बरतने वाले अधिकारियों के विरुद्ध भी अनुशासनात्मक कार्यवाही की चेतावनी दी। प्रभारी कलेक्टर ने कहा कि धान खरीदी की निगरानी में लापरवाही बरतने वाले सहकारिता निरीक्षकों

छत्तीसगढ़ शासन खरीद रहा देश में सबसे ज्यादा कीमत पर धान : मुख्यमंत्री बघेल

सरगुजा जिले के सीतापुर में आयोजित आमसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि राज्य सरकार किसानों की सुख और समृद्धि के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि शपथ ग्रहण के दो घंटे के अन्दर ही किसानों का कृषि ऋण माफ कर दिया गया।

नोडल अधिकारियों की देखरेख में होगी धान खरीदी

कलेक्टर नीरज कुमार बनसोड़ ने कहा है कि खरीफ विपणन वर्ष 2018-19 के लिए समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी की जा रही है। जिले में स्थापित 205 उपार्जन केन्द्रों के माध्यम से अब तक 5 लाख से अधिक मीट्रिक टन धान की खरीदी की जा चुकी है। उन्होंने कहा है कि कई खरीदी केन्द्रों में अब तक पंजीकृत रकबे के मान से 80 प्रतिशत से अधिक धान की खरीदी की जा चुकी है। 80 प्रतिशत से अधिक धान की खरीदी केन्द्रों में अब धान खरीदी के लिए नियुक्त नोडल अधिकारियों की देखरेख में धान की खरीदी की जाएगी। उन्होंने संबंधित नोडल अधिकारियों को अपने देखरेख में धान खरीदी का कार्य संपादित करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि धान खरी

कलेक्टर ने धान खरीदी के संबंध में ली बैठक

कलेक्टर महादेव कावरे ने खाद्य अधिकारी, नोडल अधिकारी धान खरीदी, जिला विपणन अधिकारी, जिला प्रबंधक नान, राईस मिलर्स एवं ट्रांसपोटर्स की संयुक्त बैठक लेकर जिले में धान खरीदी एवं उठाव के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि जिले के समितियों में धान अत्यधिक मात्रा में उपलब्ध है, जिसके लिए परिवहनकर्ताओं को अधिक से अधिक गाडिय़ां लगाकर उठाव करने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने कहा कि जिले में ओवरलोडिंग संबंधी गाडिय़ां न लगाई जाए। कलेक्टर कहा कि सरदा और लेंजवारा संग्रहण केन्द्र में रविवार के दिन भी धान अनलोडिंग का कार्य जारी रहेगा। उन्होंने सरदा के साथ-साथ लेंजवारा के फंड़ में भी धान का सं

कलेक्टर ने की धान खरीदी व्यवस्था की समीक्षा

कलेक्टर ने आज कलेक्टोरेट स्थित मनियारी सभाकक्ष में समय सीमा के अंतर्गत अधिकारियों की बैठक लेकर विभागीय कामकाज की समीक्षा की। उन्होंने धान खरीदी व्यवस्था से जुड़े अधिकारियों को निर्देशित किया कि एसडीएम की उपस्थिति में सप्ताह में दो बार बैठक आयोजित करें साथ ही सप्ताह में एक बार मिलर्स की बैठक सुनिश्चित करें।

समर्थन मूल्य पर अब तक 9 लाख 34 हजार क्विंटल धान खरीदी

जिले में 35 समितियों के माध्यम से 111 धान खरीदी केन्द्रों में अब तक 22,421 कृषकों से 140661.4 क्विंटल मोटा धान एवं 789262.27 क्विंटल पतला धान और 4810. 00 क्विंटल सरना धान खरीदा गया है। इस प्रकार अब तक 9,34,734 क्विंटल धान की खरीदी समर्थन मूल्य पर की गई है।

सरकार के 25 सौ रुपए में धान खरीदी निर्णय से उत्साहित हैं किसान

मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ राज्य भूपेश बघेल के नेतृत्व में गठित नई राज्य सरकार की ओर से 25 सौ रुपए प्रति क्विंटल की दर पर समर्थन मूल्य में धान खरीदी निर्णय से जिले के किसान उत्साहित हैं। राज्य शासन के इस फैसले को किसानों ने किसान हितैषी निरूपित करते हुए इसके जरिए अधिक फायदा होने की उम्मीद जताई है। दंतेवाड़ा जिले के अंतर्गत धान खरीदी केंद्र दंतेवाड़ा में 20 क्विंटल धान विक्रय करने वाले चितालंका निवासी मिरीराम की पत्नी कुंभबत्ती ने सरकार के इस फेसले के प्रति प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने किसानों के उपज का वाजिब दाम देने के लिए जो निर्णय लिया है, वह स्वागत योग्य है। उन्होंने इस फैसले के

किसानों की ओर से लाए गए बारदाने से भी होगी धान खरीदी

जिले में वर्तमान में धान उपार्जन कार्य 54 समितियों के 86 उपार्जन केंद्रों में संचालित किया जा रहा है। इस वर्ष शासन के निर्देशानुसार 60 प्रतिशत धान नए बारदाने में एवं 40 प्रतिशत धान पुराने बारदानों में उपार्जित किए जा रहे हैं। खाद्य अधिकारी ने बताया कि धान उपार्जन कार्य में नए बारदानों की पर्याप्त व्यवस्था है, किंतु पुराने बारदानों की किल्लत समितियों में बनी हुई है। इस समस्या के समाधान के लिए कलेक्टर के प्रयास से किसानों के पुराने बारदानों में धान खरीदी में खरीदी के लिए विकल्प समितियों को प्राप्त है। इस संबंध में यह निर्देश है कि जब समिति प्रबंधकों की ओर से आगामी खरीदी के लिए टोकन जारी किया जाए